जयपुर के 7 मशहूर पताशीवाले, जिनके यहाँ की पताशी ज़रूर खानी चाहिए

पताशी, गोलगप्पे, पुचका, पानीपुरी और पानी के बताशे! ये है तो एक ही है लेकिन पुरे भारत में अलग–अलग नाम से जाने जाते है और आलम ये है कि नाम पढ़ते ही मुंह में पानी तो आ ही जाता है और साथ ही साथ इनका टेस्ट तक फील होने लगता है। एक छोटे बच्चे के मीठी पताशी खाने से लेकर एक बुज़ुर्ग के पताशी का पानी पीने तक की रेंज आपको एक पताशी की स्टाल पर मिल जाएगी। आख़िर में सूखी पपड़ी लेना तो ‘जन्म सिद्ध अधिकार’ जैसा लगता है।

जयपुर राजस्थान की फ़ूड कैपिटल भी मानी जाती है और यहाँ आपको पताशी वाला हर कार्नर पर मिल ही जाएगा। लेकिन आप लोगो के सामने हम लेकर आए है कुछ चुनिन्दा पताशी वाले जिनके यहाँ हर जयपुराइट को कम से कम एक बार पताशी ज़रूर ट्राय करनी चाहिए।

लाल जी पताशी, त्रिपोलिया: जयपुर अगर अपने गुलाबी रंग के लिए फेमस है तो लाल जी पताशी के लिए भी उतना ही फेमस है। यहाँ की SP और DSP से हर जयपुर वाला वाकिफ़ होगा ही और बहार से आने वाले लोग भी इस जगह का एक चक्क्कर तो काट कर जाते ही है। लालजी पताशी त्रिपोलिया बाज़ार में सर्गासुली के बिलकुल अपोजिट में मिल जाएगा। यहाँ जाकर इनके हाथ का एक अलग टेस्ट लेकर तो देखिए, हमें धन्यवाद बाद में देना फिर!lal ji-Gol-Gappas

ब्रिजवासी पताशी भंडार: ब्रिजवासी पताशी भंडार गोलगप्पे वालों के लिए एक और ज़बरदस्त डेस्टिनेशन है। ब्रिजवासी के साथ पान तो अक्सर जुड़ा देखा होगा पर ये पान की जगह पताशी खिलाते है। ओल्ड सिटी में और गोविन्द देवजी के पास होने से यहाँ आसानी से जाया जा सकता है।

बापू बाज़ार: स्ट्रीट फ़ूड खाना है तो बापू बाज़ार का नाम ज़रूर दिमाग में आएगा। यहाँ कुछ गोलगप्पे वालों की स्टाल ऐसी है जहां हर कोई पताशी खाने रुक ही जाएगा। एक तरह से पताशी खाने वालों के लिए बापू बाज़ार जन्नत से कम नहीं है।

डेल्ही चाट भण्डार: डेल्ही चाट, माधो सिंह सर्किल, बनी पार्क ये वो एड्रेस है, जिसे पताशी लवर जो जयपुर में रहता है या यहाँ घुमने आया है उसे नोट कर ही लेना चाहिए। तरह-तरह की वैरायटी के बिच एक जादुई सफ़र करना है तो इससे अच्छी जगह कहीं और नहीं है, हाँ और गोलगप्पे खाने का कम्पटीशन करना है तब भी ये बेस्ट जगह है।

नन्द चाट भंडार: राजा पार्क स्थित नन्द चाट भंडार कोई अनछुआ नाम नहीं है। हायजीन की बात करने वालों को ये जगह बहुत सूट करेगी। यहाँ इस बात पर अच्छे से ध्यान दिया गया है और टेस्ट तो लाजवाब है ही, ये हम नहीं राजा पार्क में पड़ने वाली भीड़ खुद आपको बता देगी।nand chat bhandar

जयपुरी चटखारा: “कहाँ है?, अच्छा ऐसा कर जल्दी GT आ जा मैं भी पहुच रहा हूँ”, ये जयपुर में हर कोई बोलता नज़र आता है। GT कहे या गौरव टावर जयपुर का सबसे पुराना मॉल बताया जाता है। यहीं पर है जयपुरी चटखारा, यूँ तो वैसे यहाँ बहुत सी खाने की चीज़े है पर जयपुरी चटखारा ने अपनी पताशी से यहाँ एक अलग ही पहचान बनाई है। अगर आप भी हायजीन फ्रिक है और अफोर्डेबल प्राइस में गोलगप्पे खाना चाहते है तो इससे अच्छी जगह नहीं है।

दुर्गा दस चाट भंडार: आदर्श नगर, ऐसे शायद कम ही लोगो ने नाम सुना होगा पर अगर दुर्गा दास चाट भंडार नाम आए तो समझ आ जाएगा अच्छा ‘आदर्श नगर’ …! हम सभी लाइफ में हर चीज़ में वैरायटी की डिमांड करते है या उम्म्मीद करते है, और यहीं उम्मीद अगर पताशी के पानी में भी मिलने लग जाए फिर तो क्या ही कहने…? अगर आप भी उन लोगो में से है तो दुर्गा दास चाट भंडार आप ही के लिए है। अलग-अलग वैरायटी लिए गोलगप्पे का पानी और साथ में पुचका शॉट यहाँ की खासियत है।durga das chat bhandar

 

तो फिर किसका इंतज़ार है जल्दी ही अपने पताशी पार्टनर के साथ इन जगहों को छान मारो और जीवन का आनंद लो।

नोट: ये आर्टिकल अनुप्रिया भारत जैन ने जयपुर सिटी ब्लॉग के लिए अंग्रेजी में लिखा था। http://www.jaipurcityblog.com/pani-puri-golgappe-stalls-street-food-in-jaipur.html

What are your views about this post?
SHARE
इंजीनियरिंग से ऊब जाने से हालातों ने लेखक बना दिया। हालांकि लिखना बेहद पहले से पसंद था। लेकिन लेखन आजीविका का साधन बन जाएगा इसकी उम्मीद नहीं थी। UdaipurBlog ने विश्वास दिखाया बाकी मेरा काम आप सभी के सामने है। बोलचाल वाली भाषा में लिखता हूँ ताकि लोग जुड़ाव महसूस करे। रंगमंच से भी जुड़ा हूँ। उर्दू पढ़ना अच्छा लगता है। बाकि खोज चल रही है। निन्मछपित सोशल मीडिया पर मिल ही जाऊँगा, वहीँ मुलाक़ात करते है फिर।