राजस्थान रॉयल्स वर्सेज़ डेल्ही डेयरडेविल्स: आज होगा जयपुर में ‘हल्ला-बोल’

क़रीब दो सालों बाद वापसी कर रही ‘राजस्थान रॉयल्स‘ आज जयपुर के सवाई मानसिंह स्टेडियम में ‘हल्ला-बोल’ करेगी। यह मुक़ाबला न सिर्फ राजस्थान रॉयल्स के लिए महत्वपूर्ण है बल्कि जयपुरवालों के लिए भी खास है। क्योंकि सवाई मानसिंह स्टेडियम लगभग पांच साल बाद कोई बड़ा मैच होने जा रहा है। इस सूखे के मिटने का इंतज़ार हम सभी को बेसब्री से था। आज रात 8 बजे से ‘रॉयल्स’ एक बार फिर से अपने गढ़ में दहाड़ने जा रही है। इस मैच के हाउसफुल रहने के आसार है इसका मतलब यह है कि 25,000 की क्षमता वाला यह स्टेडियम खचाखच भरा रहेगा।rr-vs-dd

राजस्थान रॉयल्स और डेल्ही डेयरडेविल्स दोनों ही अपना पहला मैच हार चुकीं है। इस स्थिति में दोनों ही चाहेगी कि आईपीएल-2018 में उनका जीत का खाता खुले। एक और डेल्ही डेयरडेविल्स इस साल काफी बैलेंस्ड साइड लग रही है वहीं राजस्थान रॉयल्स कई हद तक अपने बल्लेबाजों पर निर्भर है। लेकिन राजस्थान रॉयल्स को होम ग्राउंड का फ़ायदा मिल सकता है। वैसे भी सवाई मानसिंह स्टेडियम पर RR का रिकॉर्ड अच्छा ही है। rr-vs-dd

एक नज़र डालते है राजस्थान रॉयल्स और डेल्ही डेयरडेविल्स के बीच हुए अब तक मुक़ाबलों पर: 

राजस्थान रॉयल्स और डेल्ही डेयरडेविल्स के बीच कुल मिलकर 16 मैच हुए है जिनमें 10 बार राजस्थान रॉयल्स जीती है और 6 बार डेल्ही डेयरडेविल्स। एक और रोचक तथ्य ये भी है कि आख़िरी 6 मैच में जब-जब दोनों टीमे आमने-सामने हुई है जीत हमेशा राजस्थान रॉयल्स को ही मिली है। लेकिन दोनों की आख़िरी बार भिड़ंत साल 2015 के आईपीएल में हुई थी। Ajinkya-Rahane

राजस्थान रॉयल्स मुख्य रूप से बेन स्टोक्स, जोस बटलर, डी’अर्च्य शोर्ट और कप्तान अजिंक्य रहाने पर निर्भर रहेगी वहीं डेल्ही के पास कप्तान गौतम गंभीर, कोलिन मुनरो, ग्लेन मेक्सवेल जैसे धाकड़ बल्लेबाज़ है तो ट्रेंट बौल्ट और शमी जैसे खपची बॉलर भी है। IPL points table

गुलाबी नगरी वालों मुक़ाबला कड़ा होने वाला है। आज शाम 8 बजे का शोर इतना रहेगा कि इसकी गूँज ‘कालावाड रोड’ तक सुनाई देने वाली है, ऐसा हमारा अनुमान है। बाकि मौसम विभाग का अनुमान ज्यादा मायने रखेगा बस उम्मीद कीजिए कि बारिश ना हो जाए। अच्छा, मिलते है शाम को फिर। 😉

What are you view about this post?
SHARE
इंजीनियरिंग से ऊब जाने से हालातों ने लेखक बना दिया। हालांकि लिखना बेहद पहले से पसंद था। लेकिन लेखन आजीविका का साधन बन जाएगा इसकी उम्मीद नहीं थी। UdaipurBlog ने विश्वास दिखाया बाकी मेरा काम आप सभी के सामने है। बोलचाल वाली भाषा में लिखता हूँ ताकि लोग जुड़ाव महसूस करे। रंगमंच से भी जुड़ा हूँ। उर्दू पढ़ना अच्छा लगता है। बाकि खोज चल रही है। निन्मछपित सोशल मीडिया पर मिल ही जाऊँगा, वहीँ मुलाक़ात करते है फिर।